अपठित गद्यांश किसे कहते हैं। Apathit Gadyansh in Hindi

अपठित गद्यांश – Apathit Gadyansh in Hindi Grammar   अपठित गद्यांश गद्य साहित्य का ऐसा अंश है जिसे पहले पढ़ा नहीं गया हो, जो निर्धारित पाठ्य-पुस्तकों में संकलित नहीं हो।   उस अपठित गद्यांश की भाषा कठिन नहीं होती, अपितु प्रेरणात्मक सामाजिक परम्पराओं से युक्त होती है। जिसे आसानी से समझा जा सकता है।   …

अपठित गद्यांश किसे कहते हैं। Apathit Gadyansh in Hindi Read More »

पल्लवन ( Pallawan ) – हिन्दी व्याकरण

पल्लवन – Pallawan in Hindi   हिन्दी रचना शास्त्र में पल्लवन से तात्पर्य भाव-विस्तार से लिया जाता है जिसे वृद्धीकरण या संवर्द्धन भी कह सकते हैं। यह संक्षिप्तीकरण से बिल्कुल विपरीत होता है।   इसमें प्रस्तुत सूक्ति, कहावत, वाक्यांश आदि का विस्तार करके प्रस्तुत किया जाता है, जिसमें ‘गागर में सागर’ की कहावत को चरितार्थ …

पल्लवन ( Pallawan ) – हिन्दी व्याकरण Read More »

विराम चिन्ह किसे कहते हैं। सभी प्रकार और उदाहरण

विराम चिन्ह (Viram Chinh in Hindi)   परिभाषा – भाषा के लिखित रूप में अभिव्यक्ति को सरल, सहज, रोचक और स्पष्ट बनाने के लिए जिन चिह्नों का प्रयोग किया जाता है, उन्हें विराम चिह्न कहते है।   — विराम शब्द का शाब्दिक अर्थ होता है- ठहराव अथवा रुकना। अभिव्यक्तियों की पूर्णता हेतु वक्ता द्वारा बोलते …

विराम चिन्ह किसे कहते हैं। सभी प्रकार और उदाहरण Read More »

कारक : परिभाषा, भेद और उदाहरण (पूरी जानकारी)

कारक – Karak in Hindi Grammar   परिभाषा – क्रिया के कर्त्ता को कारक कहते हैं। जिन शब्दों का क्रिया के साथ प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष संबंध होता है उन्हें कारक कहा जाता है अर्थात क्रिया को करने वाला कारक कहलाता है।   ये शब्द संज्ञा एवं सर्वनाम शब्दों का वाक्य की क्रिया के साथ संबंध …

कारक : परिभाषा, भेद और उदाहरण (पूरी जानकारी) Read More »

शब्द शक्ति : परिभाषा, भेद और उदाहरण

शब्द शक्ति – Shabd Shakti Kise Kahate Hain   शब्द शक्ति से अभिप्राय — शब्द अपना एक निर्धारित अर्थ नहीं रखते। शब्दों का अलग-अलग संदर्भों में जब प्रयोग किया जाता है, तो उनके अलग-अलग अर्थ निकलते हैं।   इस अलग अर्थ का ज्ञान कराने वाली शक्ति ही शब्द शक्ति कहलाती है। शब्द एवं अर्थ का …

शब्द शक्ति : परिभाषा, भेद और उदाहरण Read More »