खेल पर निबंध – Khel Par Nibandh in Hindi

खेल पर निबंध हिंदी में (Khel Par Nibandh in Hindi)

1 . परिचय, 2 . कमरे के खेल और खुले मैदान के खेल, 3 . आवश्यकता, 4 . अन्य उपयोगिताएँ, 5 . बहुत-से गुणों के लिए शिक्षास्थल, 6 . उपसंहार ।

1 . किसी विद्यालय में छात्रों के द्वारा खेले जानेवाले खेलों को विद्यालय के खेल कहा जाता है। खेल शिक्षा का एक आवश्यक अंग है। इसलिए प्रत्येक विद्यालय खेल के लिए कुछ प्रबंध करता है।

2 . विद्यालयों में दो प्रकार के खेल खेले जाते हैं। कुछ खेल खुले स्थान में खेले जाते हैं। वे खुले मैदान के खेल कहलाते हैं। दूसरे खेल ऐसे हैं जो घर के अंदर खेले जा सकते हैं। वे कमरे के खेल कहलाते हैं। खुले मैदान के खेल जो विद्यालयों में खेले जाते हैं—फुटबॉल, बैडमिंटन, वॉलीबॉल, टेनिस, क्रिकेट और हॉकी हैं। विद्यालय में खेले जानेवाले कमरे के खेल-शतरंज, कैरम, लूडो और टेबुल-टेनिस हैं।

3 . छात्रों के लिए खेल आवश्यक हैं। वे लगातार काम नहीं कर सकते। परिश्रम करने के बाद वे चाहते हैं। यह आराम खेल से मिलता है।

4 . खेल, छात्रों को केवल विश्राम के कारण ही नहीं, बल्कि अन्य गुणों के कारण भी अच्छे लगते हैं। वे आनंद, उत्तेजना एवं विजय का आनंद प्रदान करते हैं। मैदान के खेलों एवं कुछ कमरे के खेलों से भी प्रचुर मात्रा में व्यायाम होता है।

वे हमारे शरीर को स्वस्थ रखते हैं। कमरे के खेलों में से कुछ खेलों में धैर्य और बुद्धि की आवश्यकता होती है। खिलाड़ी उन्हें पसंद करते हैं, क्योंकि उनलोगों को अपनी बुद्धि प्रदर्शित करने का अवसर मिलता है।

5 . हमलोग खेल से बहुत अच्छे गुण और सबक सीखते हैं। यह हमें एकता, आत्मनिर्भरता और सहानुभूति सिखाता है। एक ही उद्देश्य के साथ काम करने के कारण लड़के एक साथ काम करने की शिक्षा पाते हैं।

मैदान में वे दूसरे के विचारों के प्रति श्रद्धा करना सीखते हैं। वे सीखते हैं कि सफलता एवं असफलता के समय कैसा व्यवहार करना चाहिए और समाज में कैसे मिलना चाहिए। खेल-कूद हमें यह सिखाता है कि हार को मुस्कराकर बर्दाश्त करें।

अपनी सफलता पर अत्यधिक आनंदित न होना और पराजित का उपहास न करना ऐसे गुण हैं, जिन्हें हमलोग खेल के मैदान में सीखते हैं। इसीलिए यह प्रवृत्ति खिलाड़ी की तरह की प्रवृत्ति कहलाती है। विद्यालय के खेल हमें अनुशासन सिखाते हैं। जब हम खेलते हैं तब हमें कुछ नियमों का पालन करना पड़ता है। वस्तुतः, खेल-कूद के बिना शिक्षा अधूरी है।

6 . संक्षेप में, खेल हमें स्वास्थ्य, विनोद, आनंद और चरित्र प्रदान करते हैं। इसलिए हर एक लड़के और लड़की को स्कूल के खेल-कूद में भाग लेना चाहिए।

Final Thoughts –

यह हिंदी निबंध भी पढ़े –