आजकल के वक्त में लाइफ काफी टेक्नोलॉजी से भरी हुई है। सुबह आंख खुलने से लेकर रात को सोने तक हमारे चारों तरफ डिवाइस की बौछार है। एक वक्त था, जब लोग आंख खुलते ही टहलने या बाहर घूमने की सोचते थे पर वक्त के साथ-साथ चीजें बदल गई हैं और 21वीं सदी में हम बिस्तर छोड़ने से पहले मोबाइल को टटोलते हैं और एक लंबा वक्त बीतने के बाद ऑफिस, घर और रोजाना की भागदौड़ में लग जाते हैं। जिसकी वजह से अक्सर हमारे दिन के बाकि सारे काम तो पूरे हो जाते हैं लेकिन हमारी बॉडी सुस्त हो जाती है। बॉडी के सुस्त होने का असर हमारे दिमाग पर भी पड़ता है, जिससे हमारे हर काम पर असर पड़ता है।

आज हम आपको बताने जा रहे हैं टेक्नोलॉजी टाइम में खुद को एक्टिव कैसे रखा जाए।

1. सिर्फ दो मिनट करें स्ट्रेच:

खुद को ज्यादा एक्टिव रहने के लिए स्ट्रेटिंग सबसे बेस्ट तरीका है। स्पाइनल स्ट्रेच या स्ट्रेस रिलीजिंग स्ट्रेस जैसे स्टेप कर सकते हैं। इस तरह की स्ट्रेचिंग 2 से 5 मिनट करने से आपकी बॉडी पूरे दिन एक्टिव रहेगी, साथ ही मांसपेशियों को भी आराम मिलेगा। डॉक्टरों का कहना है कि स्ट्रेचिंग करने से मांसपेशियां खींचती हैं जिसका सीधा असर दिमाग पर पड़ता है और इससे तनाव को दूर करने में मदद मिलती है।

2. शावर नहीं बाल्टी करें इस्तेमाल:

अगर आप शावर का इस्तेमाल करते हैं तो एक बार इस स्टेप को छोड़ दीजिए और बाल्टी में पानी भरकर नहाइए। बाल्टी में पानी भरकर मग से नहाने से बॉडी मूमेंट ज्यादा होती है और कैलोरी बर्न करने में मदद मिलती है। इससे होने वाले फायदों से आप खुद हैरत में पड़ जाएंगे। लगातार ऊपर-नीचे होने और मग उठाने से आपके बाजू और कमर को काफी फायदा होगा और इससे बॉडी को एक्टिव रखने में मदद मिलेगी।

3. हेल्दी ब्रेकफास्ट है बहुत जरूरी:

बिजी शेड्यूल में अक्सर सब कुछ करते हैं, लेकिन दिन के सबसे बड़े और महत्वपूर्ण आहार को छोड़ देते हैं। ब्रेकफास्ट को स्किप करना आपकी सेहत पर असर डाल सकता है, इसलिए रोजाना 10 मिनट निकालकर ब्रेकफास्ट जरूर करना चाहिए। आप फैमिली के साथ रहते हैं या सिंगल ब्रेकफास्ट बनाने का वक्त नहीं है तो चने और सोयाबीन के अंकुरित दानें रात को भिगोकर रख दीजिए और सुबह इन्हें खाइए। सोयाबीन, चने, और अन्य अनाज जैसे गेंहु आदि को खाने से आपके शरीर में मिनरल्स की मात्रा में बढोत्तरी होती है, जिससे बॉडी एक्टिव रहती है।

4. घर के छोटे-छोटे काम निपटाएं:

इन दिनों अक्सर घरों में छोटा सा छोटा काम करने के लिए मशीनों का इस्तेमाल किया जाता है। पहले लोग सिलबट्टे पर मसालों को पीसते थे, जिससे हाथों की एक्सरसाइज हो जाती थी, लेकिन वक्त की कमी के कारण अब मिक्सर का इस्तेमाल किया जाता है। अगर, आप खुद को फीजिक्ली एक्टिव रखना चाहते हैं तो घर के छोटे-छोटे काम खुद करें। जैसे घर की सफाई करने के लिए झाडू लगाना, डस्टिंग करना या फिर किचन में खड़े होकर सब्जी काटने जैसे काम खुद करें। शरीर को शेप में लाने के लिए यह एक्टिविटी काफी अच्छा है।

5. लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का करें इस्तेमाल:

बड़ी-बड़ी इमारतें होने के कारण आजकल लोग लिफ्ट का इस्तेमाल करते हैं। अगर आप भी कुछ ऐसा ही करते हैं तो थोड़ा सा सावधान हो जाइए रोजाना सिर्फ 15-20 सीढ़ियां चढ़ने और उतरने से आप अपनी बॉडी को फिट को बना सकते हैं। आपके पास सुबह उठकर वॉक या एक्सरसाइज करने का वक्त नहीं है तो आप लिफ्ट को छोड़कर सीढ़ियों का इस्तेमाल करके खुद को एक्टिव बना सकते हैं।

6. दिमाग को रखें एक्टिव:

बॉडी को एक्टिव रखने के लिए जरूरी है कि आप खुद को दिमागी तौर पर एक्टिव रखें। दिमाग को एक्टिव रखने के लिए जरूरी है कि ऑफिस में काम की भागदौड़ में छोटे-छोटे काम खुद करें। पानी की बोतल, लंच गर्म करना, चाय या ग्रीन टी खुद से लेने की आदत डालें। इसके साथ ही दिन में जब भी मुमकिन हो खड़े होने की कोशिश करें। ज्यादा देर तक एक ही जगह पर बैठे रहने से आपकी क्वालिटी इफेक्ट होती है। कुछ वक्त पहले हुए एक शोध में यह बात सामने आई थी कि ज्यादातर एक जगह बैठकर काम करने से इंसान चीजें सीखने की बजाय, उससे बोर होने लगता है और एक वक्त ऐसा होता है जब स्वभाव में चिड़चिड़ापन आने लगता है।

7. पार्टनर के साथ वक्त बिताए:

दिनभर की भागदौड़ के बाद अपने पार्टनर को वक्त देना न भूलें। पार्टनर के साथ वक्त बीताने से आपका दिल और दिमाग दोनों एक्टिव हो जाते हैं। फिजिकली एक्टिव रहने, तनाव दूर करने, इम्यूनिटी को बढ़ाने, कैलोरी बर्न करने और अच्छा फील करने के लिए शारीरिक संबंध का रास्ता सबसे अच्छा है। 2015 में आई एक रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ था कि पार्टनर के साथ सप्ताह में दो बार सेक्स करने वाले लोग दिमागी तौर पर ज्यादा अच्छा महसूस करते हैं और उनका शरीर भी संबंध न बनाने वालों के मुकाबले ज्यादा एक्टिव और स्वस्थ महसूस करता है।