एक स्वस्थ शरीर की कामना हर किसी कोई करता है। हर व्यक्ति चाहता है कि उसके शरीर की क्रियाप्रणाली स्वस्थ तरीके से काम करे। लेकिन लोगों की बदलती जीवनशैली और खानपान की बिगड़ती आदतों के कारण उन्हें बीमारियों का सामना करना पड़ता है। हमारे शरीर को बीमार बनाने में शरीर में मौजूद टॉक्सिन्स (विषेले पदार्थ जैसे बैक्टीरिया, ड्रग, अलकोहल) बड़ी भूमिका निभाते हैं। लेकिन क्या हैं ये टॉक्सिन्स और किस प्रकार से ये हमारे शरीर को ग्रसित करते हैं और कैसे हम शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकाले इसपर बात करते है।

1. क्या होते हैं टॉक्सिन्स

टॉक्सिन्स एक ऐसे नुकासदेह विषेला पदार्थ होते हैं जो आपके खाने में शामिल होकर या प्रदूषित वायु द्वारा आपके शरीर में पहुंचते हैं। किसी प्रकार का कोई फल या सब्ज़ी जो किसी हिस्से से थोड़ा गला या सड़ा हुआ हो और गलती से आपने उसका सेवन कर लिया तो उसमें मौजूदा बैक्टिया अब आपके शरीर में टॉक्सिन्स के रूप में पहुंच चुका है। न केवल सड़ी-गली सब्ज़ी बल्कि फास्ट फूड आइटम जिन्हें तेल में बहुत पकाया गया हो वह भी आपके शरीर के लिए नुकसानदेह होते हैं और उनमें भी टॉक्सिन्स होते हैं जो अतिरिक्त वसा के रूप में सामने आते हैं। प्रदूषित वातावरण भी आपके शरीर में टॉक्सिन्स के दाखिल होने का रास्ता बन सकता है।

a. किस तरह पहचाने शरीर में मौजूदा टॉक्सिन्स को

टॉक्सिन्स को निम्नलिखित रूप में पहचाना जा सकता है-

  • हमेशा थकावट महसूस करना
  • वज़न का अधिक बढ़ना
  • मुंह से दुर्गंध आना
  • अपच की शिकायत
  • मांसपेशियों में दर्द
  • त्वचा का अधिक एलर्जिक होना

b. कैसे दूर करें शरीर से टॉक्सिन्स को

हमारी शरीर की बनावट इस प्रकार है कि वह खुद ही अधिक से अधिक मात्रा में टॉक्सिन्स को मल एवं मूत्र के रूप में बाहर कर देती है। इसके लिए लीवर, बड़ी आंत, किडनी और फेफड़े खाद्य पदार्थ एवं पर्यावरण से शरीर में दाखिल हुए टॉक्सिन्स को दूर करने में कारगर हैं। लेकिन इसके बाद भी यदि आपके शरीर से टॉक्सिन्स बाहर नहीं निकल रहे, तो आप ‘लेमन डिटॉक्स डाइट’ को अपना सकते हैं।

2. क्या है लेमन डिटॉक्स डाइट

लेमन यानि नींबू, डिटॉक्स यानि टॉक्सिन्स को दूर करना। इस डाइट में नींबू पानी के सेवन से शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर किया जाता है। कैसे बनाना है नींबू पानी और कैसे अपनानी है ये डाइट ये आपको बताते हैं।

3. कैसे करें नींबू पानी तैयार

एक सर्विंग के लिए – 3 बड़े चम्मच पानी, 2 बड़े चम्मच ताज़ा नींबू का रस, चुटकी भर लाल मिर्च, 2 चम्मच मेपल सिरप।

4. कैसे करनी है डाइट फॉलो

एक सर्विंग करीब 70 एमएल की बनेगी। इस प्रकार सर्विंग बनाकर आपको दिनभर में 2 लीटर रस पीना। लेकिन याद रहें कि इस डाइट को फॉलो करने के दौरान किसी भी प्रकार के ठोस खाद्य पदार्थ या किसी अन्य प्रकार के पदार्थ का सेवन नहीं करना है। यह डाइट 2 हफ्तों तक चलेगी। यानि आपका ब्रेकफास्ट, लंच, स्नैक्स और डिनर केवल यही रस होगा।

5. किस प्रकार होगा लाभ

  • खाद्य पदार्थ के सेवन ना करने से आपके शरीर में केलोरी नहीं जाएगी। यानि शरीर को जो भी दिन में क्रिया करनी है उसके लिए वह ऊर्जा शरीर में जमा वसा से प्राप्त करेगा। इस प्रकार आप फैट लोस का अनुभव कर सकेंगे।
  • जन्म से लेकर अंतिम सांस तक आप किसी न किसी प्रकार में खाते ही रहते हैं, जिसके चलते हमारा पेट पूर्ण रूप से कभी खाली नहीं होता है। इस डाइट में जब आपके पेट में कई दिन तक खाद्य पदार्थ नहीं जाएगा, तो पेट को मौका मिलेगा की वह खुद को पूर्ण रूप से साफ करे और स्वस्थ बना सके।
  • टॉक्सिन्स के होने से हमारे शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता कम हो जाती है, जिसके कारण हम ज़्यादा बीमार पड़ते है। इस डाइट की मदद से शरीर को टॉक्सिन मुक्त कर शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है बीमारियों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है।
  • टॉक्सिन के कारण हमारे चेहरे पर जो कील-मुंहासे निकले हुए थे, वे भी अब दूर हो जाते हैं क्योंकि शरीर से टॉक्सिन निकल चुके होते हैं।
  • मोटापा और चेहरे पर कील-मुंहासे जैसी समस्याओं के चलते हमारा आत्मविश्वास भी कमज़ोर हो चुका होता है। जब ये समस्याएं दूर हो जाती हैं तो हम समाज में खुलकर आत्मविश्वास के साथ खुद को पेश कर सकते है।

6. क्या कहते हैं विशेषज्ञ

अधिकांश विशेषज्ञों का कहना है कि इस प्रकार की डाइट की हमें जरूरत नहीं, क्योंकि हमारा शरीर खुद ही इस टॉक्सिन्स को बाहर निकालने की क्षमता रखता है। इसके अलावा इस प्रकार की डाइट हमारे शरीर पर नकारात्क प्रभाव भी डाल सकती है। लेकिन बात जब इस डाइट की सफलता की करें तो कई हॉलीवुड सितारों ने इस डाइट से फायदा उठाया है। हॉलीवुड सिंगर बियोंस ने 2 सप्ताह में इस डाइट के सेवन से 9 किलो भार अपने शरीर के कम किया। इसके अलावा कोरिया की एक महिला पर भी जब इस डाइट को लेकर स्टडी की गई तो मात्र एक हफ्ते में ही वजन में गिरावट देखने को मिली। कुछ इसके खिलाफ हैं तो कुछ इसके पाले में लेकिन यह बात शत प्रतिशत सच है कि इससे आपको फैट लोस जरूर होगा। लेकिन इस डाइट का पालन करने के दौरान बताईं गईं शर्तों का पालन करना जरूरी है।