बरसात का महीना अपने साथ जो एक सबसे चिंताजनक चीजें लेकर आता है, वो है मच्छरों से फैलने वाली बीमारियाँ। इनमें से DENGUE का नाम सबसे ऊपर आता है जिसके हर साल पूरी दुनिया में लाखों मामले आते हैं। मच्छर का काटना कई बार जान के लिए भी खतरनाक हो सकता है।

इस बीमारी के लक्षण हैं बुखार, मांसपेशियों में दर्द, कमज़ोरी, अधिक सिरदर्द, आँखों के पीछे दर्द आदि। शोधकर्ता अभी भी DENGUE से बचने की दवाई या टीके की खोज करने के दिशा में काम कर रहे हैं। लेकिन, अभी भी इस बीमारी से बचने की सबसे अच्छा तरीका है मच्छरों से बचाव। कुछ सावधानियां बरतने के बाद आप खुद को इस बीमारी से सुरक्षित रख सकते हैं। हमारा देश भी इस बीमारी से अछूता नहीं है। जानिए 7 DENGUE से बचाव के उपाय जो हर इंडियन फैमिली को जानने चाहिए।

1. आसपास पानी जमा न होने दें:

मच्छरों के बढ़ने से रोक कर आप DENGUE से अपना और आपके आसपास के लोगों का बचाव कर सकते हैं। बरसात में मच्छरों और रोगाणु के बढ़ने का सबसे बड़ा कारण है पानी का खड़ा होना। खड़े पानी में मच्छर अंडे देते हैं और बढ़ते हैं। इससे बचने के लिए आपको पूरी सावधानियां बरतनी होंगी। जैसे:

  • कहीं भी पानी जमा न होने दें।
  • सामान जैसे पुरानी बाल्टियां, कूलर आदि में मच्छर अधिक पनपते और बढ़ते हैं। उन्हें समय-समय से साफ़ कर के उनके पानी को फेंक दें।
  • पौधों में जमा होने वाला पानी भी मच्छरों को पनपने में मदद करता है इसलिए इसका भी ध्यान रखें। समय-समय पर इसे साफ़ करें।
  • अगर आप पानी को जमा नहीं होने देंगे तो आप न केवल मच्छर को पनपने से रोक पाएंगे। इससे मच्छरों के अंडे और DENGUE का लार्वा भी नष्ट होगा।

2. डेंगू के मच्छरों को भगाने वाले पौधों को लगाएं

मच्छरों को भगाने के लिए केमिकल से ज्यादा अच्छा उपाय है मॉस्किटो रिप्लीयन्ट पौधे लगाना। ताकि, मच्छरों को भगाया जा सके। यह बात सुनने में थोड़ी अजीब लग सकती है। लेकिन, यह सच है। इस प्राकृतिक तरीके से आप मच्छरों को दूर कर सकते हैं। जानिए कुछ ऐसे पौधों के बारे में।

a) तुलसी:
हमारे देश में तुलसी का पौधा आमतौर पर हर घर में पाया जाता है। क्योंकि, इसे पौधा नहीं भगवान के रूप में पूजा जाता है। तुलसी का पौधा मच्छरों को घर से दूर रखता है। तुलसी को अपनी बालकनी या खिड़की के पास रखने से मच्छर घर में प्रवेश नहीं करते और दूर रहते हैं।
b) नीम:
नीम का पौधा हमारे स्वास्थ्य के लिए भी बहुत फ़ायदेमंद है। इसे घर में लगाने से मच्छर और अन्य कीड़े- मकोड़े दूर रहते हैं। नीम का तेल लगाने से भी मच्छर दूर रहते हैं।
c) गेंदे:
गेंदे के फूल की सुगंध मच्छर बिलकुल भी पसंद नहीं करते इसलिए अगर आप घर में इसे लगाएंगे तो मच्छर दूर भागेंगे।
d) लैवेंडर :
लैवेंडर की खुशबु के कारण भी मच्छर इस पौधे से दूर भागते हैं। अगर आप इस पौधे को अपने घर में लगाएंगे तो आपको फायदा होगा।
e) रोजमेरी:
रोजमेरी नीले फूलों वाला पौधा होता है। इससे भी मच्छरों को घर से दूर रखने में मदद मिलती है।

3. साफ़-सफाई का रखें पूरा ध्यान:

DENGUE ही नहीं बल्कि अन्य कई बिमारियों से बचने का सबसे अच्छा उपाय है साफ़-सफाई का ध्यान रखना।

  • नियमित रूप से अपने घर की खासतौर पर कोनों को सफाई करें। यही नहीं, अपने बगीचे को भी साफ़ रखें।
  • कूड़ेदान मच्छरों को आकर्षित करते हैं इसलिए इन्हे हमेशा साफ़ और ढक कर रखें।
  • अपने परदे, गलीचे, सोफे आदि के कवर आदि को भी नियमित रूप से अच्छे से झाड़ें।
  • अपने घर के चारों तरफ घास और अन्य खरपतवार न उगने दें।
  • घर के अंदर कीटनाशक दवाओं का छिड़काव करें।
  • अपने शरीर को भी ढक कर रखें। ऐसे कपड़े पहनें जो बाजू और टांगों को कवर करते हों।
  • गंदगी वाले स्थानों पर जाने से बचे।

4. इम्युनिटी बढ़ाने के करें उपाय:

DENGUE और अन्य संक्रमण से बचना है तो इम्युनिटी को बढ़ाना बहुत आवश्यक है। अगर इम्युनिटी मजबूत है तो DENGUE या अन्य बीमारियाँ होने की संभावना बहुत कम हो जाती है। इसलिए आपको सेहतमंद आहार और इम्युनिटी बढ़ाने वाले सप्लीमेंट्स लेने चाहिए। जैसे:

a) विटामिन सी:
विटामिन सी युक्त खाद्य पदार्थ इम्युनिटी बढ़ाते हैं और व्वाइट रेड सेल्स का भी निर्माण करते हैं। इसलिए अपने आहार में विटामिन सी युक्त आहार शामिल करें जैसे संतरा, नींबू, कीवी आदि।
b) लहसुन:
लहसुन DENGUE से लड़ने में मददगार है। इसके एंटीबैक्टीरियल और एंटीफंगल गुण इम्युनिटी बढ़ाने में सहायक है।
c) पालक:
पालक के हमारे स्वास्थ्य के लिए बहुत से फायदे हैं। पालक में विटामिन सी, एंटीऑक्सिडेंट और बीटा-कैरोटीन आदि होता है। इम्युनिटी बढ़ानी है तो इसे आपके आहार में अवश्य शामिल करें।

इसके अलावा हल्दी, दही और तरल पदार्थ भी इम्युनिटी बढ़ाने में सहायक है। जितना हो सके अधिक पानी पीएं। शरीर में पानी की कमी न होने दें।

5. मॉस्किटो रेपेलेंटस का प्रयोग करें:

आजकल बाजार में मच्छरों को भगाने के लिए कई मॉस्किटो रेपेलेंटस मौजूद हैं। यह जेल, स्प्रे, क्रीम, पैचेज आदि कई रूप में आते हैं। मॉस्किटो रेपेलेंट स्प्रे, बैंड, जेल, क्रीम आदि की गंध से मच्छर पास नहीं आते।

अगर आप घर पर हैं या बाहर जा रहे हैं तो इन चीज़ों का प्रयोग कर के आप मच्छरों से सुरक्षित रह सकते हैं और अपने बच्चों को भी सुरक्षित रख सकते हैं। आपके बच्चे जब भी बाहर जा रहे हों तो उन्हें मॉस्किटो रेपेलेंटस के बिना न जाने दें। मॉस्क्वीटो पैचेज का प्रयोग भी किया जा सकता है।

6. घर के दरवाज़े और खिड़कियां रखें बंद:

  • ऐसा माना जाता है कि DENGUE का मच्छर दिन में ही काटता और पनपता है। इसलिए दिन में अपने घर की खिड़कियों और दरवाज़ों को बंद रखें ताकि घर में मच्छर न आ पाएं।
  • घर के दरवाज़े और खिड़कियों पर जाली लगाना न भूलें।
  • घर में कपूर या लैवन्डर अरोमा कैंडल जलाने से भी मच्छर घर के अंदर नहीं आते।
  • रात को सोते हुए मच्छरदानी का प्रयोग करें।

7. शुरुआती लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें:

एक कहावत के अनुसार “रोकथाम इलाज से बेहतर है”। ऐसे में DENGUE के शुरुआती लक्षणों को नज़रअंदाज़ न करें। सबसे पहले इनके लक्षणों को पहचाने। लक्षण दिखने के बाद तुरंत डॉक्टर के पास जाएं और उपचार शुरू कराएं। बिना डॉक्टर की सलाह के कोई भी दवाई न ले। इसकी अभी कोई दवाई नहीं है इसलिए सावधानियों के साथ-साथ डॉक्टर की राय का पूरा पालन करें। अगर इसका उपचार सही समय पर न हो तो यह DENGUE हेमोरेजिक फीवर में बदल जाता है। ऐसा होने के परिणाम बहुत खतरनाक हो सकते हैं।

हमारे देश में दंगों के हज़ारों मामले हर साल आते हैं। DENGUE के लक्षणों को कई बार हम फ्लू या वायरल फीवर समझ लेते हैं जिसके कारण इसका सही इलाज नहीं हो पाता। जिससे यह बीमारी घातक रूप ले लेती है। ऊपर दी गयी सावधानियों का पालन करें और DENGUE जैसी खतरनाक बीमारी से खुद को सुरक्षित रखें।